इत्ता छोटा मैं नहीं लूंगी-महिला डिप्टी मेयर बड़ा लेने पर अड़ी

संजीव बिट्टू ने मारी बाजी – बने पटियाला के मेयर

ब्राह्मणों को मान दे रहा पटियाला शाही घराना

पटियाला के शाही घराने ने ब्राह्मणों की कद्र करने का सिलसिला जारी रखते हुए संजीव शर्मा बिट्टू को पटियाला का मेयर बना दिया । इस से पहले ब्राह्मण के के शर्मा को पी आर टी सी का चेयरमैन , ब्राह्मण राजेश पंजोला को पंजाबी यूनिवर्सटी का सिंडिकेट मेंबर और ब्राह्मण भूषण शर्मा को जिला कांग्रेस कमेटी का उपाध्यक्ष नियुक्त किया जा चुका है । मेयर बनने के बाद संजीव शर्मा बिट्टू का बुधवार को दफ्तर में पहला दिन था। ठीक 9.25 पर वह सरकारी गाड़ी से ऑफिस पहुंचे। यहां मिलने वालों का उनके आने से पहले ही तांता लगा था। मेयर आए, लेकिन अपने ऑफिस में कुछ देर बैठने के बाद ऑफिस में ही बने अलग वीआईपी रूम में में चले गए। मिलने के बाहर खड़ी पब्लिक में से कुछ वीआईपी लोगों ने मेयर के सचिव को अपना अपना परिचय देना शुरू किया। फिर एक-एक करके मेयर ने वीआईपी लोगों से बात की । लेकिन महिला डिप्टी मेयर विनती संगर ने कहा है कि उनको जरूरत से ज्यादा छोटा दिया गया कमरा सुविधाजनक नहीं इस लिए वो बड़ा ही लेंगी ।

अकाली सरकार में भी डिप्टी मेयर के ऑफिस को लेकर अड़ा था पेचा

इससे पहले अकाली-भाजपा सरकार में भी सीनियर डिप्टी मेयर और डिप्टी मेयर के ऑफिस को लेकर पेंच अड़ा था। पूर्व डिप्टी मेयर हरिंदर कोहली को पहले साहिर लुधियानवी हाल के पासऑफिस दिया गया था, लेकिन वह बड़ा ऑफिस लेने को लेकर अड़ गए। तर्क था कि उनके पास मेयर के बराबर पब्लिक आती है। इसके बाद निगम प्रशासन ने उन्हें बड़ा ऑफिस दिया। हालांकि हरिंदर कोहली से 2007 में डिप्टी मेयर बनीं सोनिया देवी और 2002 में डिप्टी मेयर बने इंद्रजीत सिंह बोपाराय ने इसी छोटे ऑफिस (जहां विनती संगर को कमरा अलॉट किया गया है) में ही अपना कार्यकाल पूरा किया है। लेकिन विनती संगर ने साफ शब्दों में कह दिया है कि इतने छोटे कमरे से उनके समर्थकों की भावना आहत हुई है इसलिए उन्हें और बड़ा दिया जाए ।


Hit Counter provided by laptop reviews