पाक अधिकृत कश्मीर में जैश ए मोहम्मद के ठिकानों पर भारतीय वायुसेना की बमबारी रोकने आए पाकिस्तानी वायुसेना के अमेरिका निर्मित एफ 16 विमान भारत के मिराज 2000 से डर कर नहीं भागे बल्कि उन्हें पृथ्वी और अग्नि की वजह से पीछे हटना पड़ा। अगर वे ऐसा नहीं करते तो भारत की पृथ्वी तथा अग्नि 1 मिसाइल पीओके {पाक अधिकृत कश्मीर} के उस हवाई अड्डे को तबाह कर देती जहां से वे उड़े थे। इसके अलावा पठानकोट और कश्मीर के श्रीनगर हवाई अड्डे पर मिग 29 और सुखोई 31 एमकेआई लड़ाकू विमान इंजन चालू कर उड़ने के ​लिए तैयार खड़े थे और उनका मुकाबला करने की ताकत फिलवक्त पाकिस्तानी वायुसेना के पास नहीं है।

 रक्षा सूत्रों के अनुसार यह कहना ​बिल्कुल गलत है कि पाकिस्तानी वायुसेना ने अपने एफ 16 विमान मिराज की वजह से पीछे हटा लिए थे। हवाई युद्ध में एफ 16 मिराज पर भारी पड़ता क्योंकि अस्सी के दशक में अमेरिका ने पाकिस्तान को भारतीय वायुसेना में शामिल मिराज 2000 से मुकाबले के लिए ही एफ 16 दिए थे। एफ 16 अमेरिकी वायुसेना आज भी इस्तेमाल करती है और यह विमान अभी भी अपने आप में बेजोड़ है। इससे मुकाबले के लिए भारत ने रूस से मिग 29 और सुखोई 31 एमकेआई खरीदे थे। इन रूसी विमानों से लड़ने के लिए पाकिस्तानी वायुसेना एक अरसे से अमेरिका से एफ 18 मांग रही है लेकिन अमेरिका ने उसे अभी तक ये दिए नहीं हैं।

 सूत्रों का कहना है कि जैसे ही मिराज 2000 पाकिस्तानी हवाई सीमा में घुसे तो पाकिस्तानी वायुसेना ने उन्हें खदेड़ने के लिए एफ 16 भेजे। वे विमान मुकाबला करते उससे पहले ही पाकिस्तानी वायुसेना ने उस अमेरिकी अवाक्स {एयरबोर्न अर्ली वार्निंग एण्ड कंट्रोल सिस्टम} से पठानकोट और श्रीनगर हवाई अड्डे पर उड़ने के लिए तैयार मिग 29 और सुखोई 31 एमकेआई का पता लगा लिया था। ये दोनों विमान चुटकी बजाते ही एफ 16 को जमीन चाटने के लिए मजबूर कर देते। अवाक्स ने ही पाकिस्तानी वायुसेना को यह बताया था कि एफ 16 अगर हवाई मुकाबला करेंगे तो मोबाइल लांचर से लांच की जानी वाली कम दूरी की पृथ्वी और सात सौ किलोमीटर तक मार करने वाली अग्नि 1 मिसाइल उन हवाई अड्डों पर बरसेंगी जहां से एफ 16 उड़ान भर रहे हैं।

 पृथ्वी मुज्जफराबाद के हवाई अड्डे और अग्नि पाक अधिकृत कश्मीर से लगे पाकिस्तान उन चार हवाई अड्डों को तबाह कर देगी जिनका उपयोग पाकिस्तानी वायुसेना कश्मीरी सीमा के साथ ही पंजाब सीमा की रक्षा के लिए करती है। चूंकि पाकिस्तान के पास एफ 16 बहुत अधिक नहीं बचे हैं, इसलिए पाकिस्तानी वायुसेना ने अपने विमान पीछे हटा लिए थे। अमेरिका से मिले अवाक्स हवाई हमले की चेतावनी देने वाला ऐसा सिस्टम है जो उड़ते हुए 400 किलोमीटर के दायरे में यह पता लगा लेता है कि कौनसे विमान और मिसाइल हवाई हमले के लिए तैयार हैं।