नवजोत सिंह सिद्धू पहले थूकने और फिर चाटने में माहिर

नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा-“जवानी में छक्के मारे”

किन्नर वेलफेयर बोर्ड ने की आलोचना 

file photo pakistan

नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने सिवनी में प्रेस कांफ्रेंस करते हुए कह डाला की कि मैं जब जवान था तो खूब छक्के मारता था. सिद्धू के इस ब्यान की किन्नर वेलफेयर बोर्ड ने कड़ी निन्दा की है . बोर्ड के प्रवक्ता कि सिद्धू को छक्का कहने का कोई अधिकार नहीं , अगर सिद्धू ने जवानी में कोई मारामारी की है तो साबित करें. भारत के किन्नर देशभक्त हैं और सिद्धू जैसे पकिस्तानी आशिकों को छक्का शब्द इस्तेमाल करते ही शर्म आनी चाहिए और सिद्धू को अपनी जुबान पर काबू रखना चाहिए.

 

 

 

(ये कहा था सिद्धू ने हैदराबाद में)  नवजोत सिंह सिद्धू ने हैदराबाद में की अपनी उस टिप्पणी को वापस ले लिया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्होंने (सिद्धू ने) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के कहने पर करतारपुर गलियारे के आधारशिला समारोह में हिस्सा लिया था।

ये पहला मौक़ा नहीं जब सिद्धू अपनी बात कह कर मुकर गया हो . सिद्धू ने हमेशां इस तेजी से रंग बदला है कि अगर गिरगिट को पता चल जाये तो वो भी शर्म से आत्महत्या कर ले. आइये देखें अपने आप को जुबान का पक्का कहने वाले इस दल बदलू ने कहाँ-कहाँ ,  क्या-क्या थूका और फिर बेशर्मी से चाटा  .

 मार्च में हुए कांग्रेस अधिवेशन में सिद्धू ने कहा, कि कांग्रेस के महाधिवेशन में आकर सिद्धू वैसा ही महसूस कर रहा है जैसे कोई तिनका नर्मदा में बहते-बहते शिवलिंग पर टिक जाए। कांग्रेस महाधिवेशन में आना ऐसा लग रहा है जैसे महाकुंभ।

सिद्धू ने 2013 में नरेंद्र मोदी के राज्य गुजरात में जाकर कहा था, कि नरेंद्र भाई के जन्मदिन पर यहां आना ऐसा है जैसे कोई ढेला फूलों की क्यारी में पहुंच गया हो।जैसे कोई तिनका नर्मदा में बहते-बहते शिवलिंग पर टिक जाए।

कांग्रेस महाधिवेशन में सिद्धू ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की तारीफ करते हुए कहा कि मनमोहन सिंह जी जो मौन रहकर कर गए वो बीजेपी का शोर नहीं कर पाया। इतना ही नहीं उन्होने मनमोहन सिंह को असरदार सरदार भी बताया।

मज़ेदार बात ये है वो भी यही नवजोत सिद्धू ही थे जिन्होने मनमोहन सिंह को मौन मोहन बताते हुए फोन को साइलेंट मोड पर करने के बजाय मनमोहन मोड पर करने की बात कही थी।

तलवे चाटने की हद तो नवजोत सिंह सिद्धू ने तब पार कर दी जब उन्होने खुद को पैदायशी कांग्रेसी बताते हुए कहा कि हम कांग्रेसियों को ये प्रण लेना होगा कि आजादी की शाम नहीं होने देंगे। जब तक शरीर में लहू बाकी है भारत माता का आंचल नीलाम नहीं होने देंगे।

और 2013 में बीजेपी की तरफ से हूबहू यही बात कही थी कि हमको ये प्रण लेना होगा कि आजादी की शाम नहीं होने देंगे। जब तक शरीर में लहू बाकी है भारत माता का आंचल नीलाम नहीं होने देंगे।

सिद्धू जी भले ही उम्र ढलने के साथ आपकी याद्दाश्त आपका साथ छोड़ रही हो लेकिन मीडिया को आपकी कही एक-एक बात याद है

अब नवजोत सिंह सिद्धू की शान में पढ़े गये कसीदे मुलाहिजा फरमाइए .

 सुखबीर बादल ने सिद्धू को देश का बड़ा गद्दारऔर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई‘ (ISI) का एजेंट करार दिया है,  सुखबीर बादल ने सिद्धू को सबसे बड़ा गद्दारकरार देते हुए उनके फोन कॉल डीटेल्स की जांच करने की मांग तक कर डाली थी। उन्‍होंने साफ कहा कि सिद्धू निरंतर पाकिस्तानियों के कॉन्टेक्ट में हैं, इसलिए जांच करानी लाजिमी हो जाती है। पूर्व डिप्टी सीएम ने आरोप लगाया कि करतारपुर साहिब गलियारे जैसे पवित्र मसले पर को बिना गंभीरता के सुर्खियों में बने रहना चाहते हैं। 

भाजपा नेता संबित पात्रा ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा नवजोत सिंह सिद्धू के पीओके के राष्ट्रपति के बराबर में बैठने को लेकर भी उनकी आलोचना की। संबित पात्रा ने कहा कि यह साधारण बात नहीं है।

भारतीय जनता पार्टी के सचिव तरूण चुघ ने कैप्टन सिंह के बारे में दिये गये बयान को लेकर सिद्धू की निंदा की है तथा यह भी कहा कि श्री सिद्धू गिरगिट की तरह रंग बदलते रहते हैं। पहले गांधी को राहुल बाबा कहते थे नरेन्द्र मोदी ,अटल बिहारी वाजपेयी को अपना गुरू मानते थे और अपनी स्वार्थ सिद्धी के लिये वो अब गांधी को अपना कप्तान मान रहे हैं तथा मुख्यमंत्री को कप्तान मानने से इंकार कर रहे हैं। उनकी बात समझ से परे है। सिद्धू के इस बयान की वाम दलों के बड़े नेताओं ने भी निंदा की है।

सुब्रमनियन स्वामी ने कहा नवजोत सिंह सिद्धू को पहले तो भारत में गिरफ्तार करना चाहिए उसके बाद पाकिस्तान दौरे पर वह कहाँ-कहाँ गए, कहाँ ठहरे, उसकी NIA द्वारा जांच की जानी चाहिए.

हरसिमरत कौर (Harsimrat Kaur) ने भी पाकिस्तान (Pakistan) से लौटते हुए सिद्धू पर तंज कसा था। उन्होंने कहा था ‘मैंने नोटिस किया कि वहां सिद्धू को भारत से ज्यादा प्यार और अहमियत मिल रही थी। उनकी वहां कुछ अच्छे संबंध हैं।’ पाकिस्तान में करतारपुर कॉरिडोर समारोह में भाग लेकर लौटीं कौर ने कहा, ‘अभी तक सिद्धू पाकिस्तान से लौटे क्यों नहीं हैं? इस सबके पीछे कांग्रेस जिम्मेदार है। उनके मंत्री पाकिस्तान जाते हैं और वहां के सेना चीफ कमर जावेद बाजवा से गले मिलते हैं।‘ 


Hit Counter provided by laptop reviews