निरंकारी भवन में बम फेंकने वालों की वीडियो फुटेज जारी

पंजाब के अमृतसर शहर के राजासांसी के अदावली गांव के संत निरंकारी भवन में ब्लास्ट करने वालों का सीसीटीवी वीडियो सामने आ गया है. इसमें निरंकारी भवन पर ग्रेनेड से हमला करने वाले दो बाइक सवार नज़र आ रहे हैं. इस कांड की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने करना प्रारंभ कर दिया है। पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इन संदिग्धों के बारे में किसी भी तरह की जानकारी देने वाले को 50 लाख रुपये का इनाम देने का ऐलान किया है. सीसीटीवी वीडियो में दो शख्स बाइक पर नजर आ रहे हैं, जिनके चेहरे ढके हुए हैं. उनमें से एक व्यक्ति जींस-शर्ट, जबकि दूसरा कुर्ता-पायजाम पहने हुए हैं. वीडियो में दिख रहा है कि दोनों ब्लैक पल्सर बाइक पर सवार हैं, जिसपर कोई नंबर प्लेट नहीं लगी हुई है.

बता दे कि अमृतसर के निरंकारी भवन में एक धार्मिक समागम में जुटे करीब 200 श्रद्धालुओं को उस वक्त अपनी जान बचाने के लिए भागना पड़ा, जब वहां रविवार को मोटरसाइकिल सवार दो लोगों ने एक हथगोला फेंका. निरंकारियों पर हुए हमले के बाद घटना के दृश्य को याद करते हुए प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि वे दहशत में और स्तब्ध हैं. उन्होंने बताया कि अमृतसर के बाहरी इलाके में स्थित इस भवन में हथगोला फेंके जाने से पहले तक यह रविवार का एक आम समागम था. पुलिस के अनुसार ग्रेनेड स्टेज की ओर फेंका गया था जहां उपदेशक सुखदेव कुमार धार्मिक समागम कर रहे थे. ग्रेनेड हमले में मुख्य उपदेशक सुखदेव कुमार भी मारे गए.

इस मामले में निरंकारी भवन के प्रबंधक द्वारा पुलिस में FIR दर्ज करा दी गई है. ये हमला किसने करवाया है अभी इस बात की पुष्टि तो नहीं हुई है, लेकिन हमले का शक पाकिस्तानी खालिस्तानी समर्थकों पर है. जिन दो लड़कों पर ग्रेनेड फेंकने का शक है, उनकी तस्वीर भी सामने आई है. पुलिस लगातार उनकी तलाश कर रही है. सोमवार सुबह NIA की टीम भी घटना स्थल पर पहुंची और जांच पड़ताल शुरू की है . इस हमले में तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि 20 से ज्यादा घायल हो गए.
पंजाब सरकार ने घोषणा कर दी है कि जो इस घटना के सम्बंध में जानकारी देंगे उसको पचास लाख तक इनाम दिया जाएगा।

इस निरंकारी भवन में रविवार सुबह जब सत्‍संग हो रहा था तो तीन युवक बाइक से वहां आए। उन्‍होंने सत्संग स्‍थल के पास बाइक रोकी और अंदर घुस गए। वे मंच के पास पहुंचे आैर वहां ग्रेनेड फेंका और भागने लगे। वहां तैनात सेवादारों ने उनको पकड़ने की कोशिश की, लेकिन वे भागने में सफल रहे। धमाके के बाद वहां अफरातफरी व भगदड़ मच गई। मारे गए लोगों की पहचान सुखदेव सिंह, कुलदीप अौर संदीप सिंह के रूप में हुई है । पंजाब सरकार मृतकों के परिवारों को 5-5 लाख रुपये सहायता देगी ।


Hit Counter provided by laptop reviews