कौन है पाकिस्तानी एजेंट गोपाल सिंह चावाला उर्फ गप्पू उर्फ चवल

राइट एक्शन रिसर्च एन्ड एनलाइसिस डेस्क

आई एस आई के एजंट गोपाल सिंह चावला को लाहौर के पंजाबियों में गप्पू उर्फ चवल के नाम से भी जाना जाता हैको पाकिस्तान की आई एस आई ने लाहौर की गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का सेक्रेट्री बनवाया था । आई एस आई के ऐसे ही भाड़े के टट्टू भारत में आतंक फैलाने के लिए जी तोड़ कोशिश कर रहे हैं । गोपाल सिंह चावला उन मुसलमानों में शामिल है जिन के पूर्वजों आजादी से पहले मुस्लिम धर्म से सबन्ध रखते हुए बगैर अमृत छक्के सिख की वेशभूषा में रहते थे और मुगलों को सिखों की सी आई डी देते थे लेकिन आजादी मिलने के बाद भारत का बटवारा होकर बने पाकिस्तान से भारत आना जिन सिख वेषभूसा धारकों ने कबूल नहीं किया था। पाकिस्तान बांग्लादेश में हुई हार की जलालत के जख्मों से अक्सर तिलमिलाता और छटपटाता रहता है और इस शर्मिंदगी भरी हार का बदला लेने के लिए अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है और जम्मू कश्मीर सहित पंजाब में भी आतंक,बेचैनी और बदअमनी का माहौल पैदा करके इन राज्यों को भारत से अलग करने की साजिश रच रहा है और इसके लिए लगातार पंजाब के कुछ लोगों को धार्मिक प्रचार के लिए विदेशों में रहते आई एस आई के समर्थकों द्वारा फंड दिए जाने के आरोप गाहे बगाहे लगते रहते हैं।
गोपाल सिंह चावला मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद का खास चहेता माना जाता है और अक्सर उसकी मीटिंग में शामिल होकर उसके साथ विचार-विमर्श करते नजर आता है ।पाकिस्तान में जब भी भारत से कोई सिख मंडल सिख धर्म स्थानों के दर्शन करने जाता है तो उन धर्म स्थानों पर सिखों को भड़काने के लिए खालीसतान संबंधी पोस्टर और बैनर लगवाने का काम इसी गोपाल सिंह चावला और उसकी पाकिस्तानी टीम द्वारा किया जाता है। इस गोपाल सिंह चावला की पूरी कोशिश रहती हैं कि पाकिस्तान आने वाले सिख श्रद्धालुओं की टीम में से कुछ लोगों को आईएसआई के अधिकारियों और आतंकवादी हाफिज सईद से मिलवाया जाए ताकि उनका ब्रेनवाश किया जा सके और पंजाब में दोबारा अशांति फैलाई जाए ।
मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के साथ कई अवसरों पर खालिस्तानी आतंकी की सामने आई तस्वीरों और वीडियो ने भारत के खिलाफ पाकिस्तान की धरती पर रची साजिश को बेनकाब कर दिया है।

इस गोपाल सिंह चावला और उसकी पाकिस्तानी जूँडली के साथ पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद और जमात-उद-दावा खालिस्तानी आतंकवाद को भड़काने में लगा हुआ है, जिसकी पुष्टि गोपाल सिंह चावला के लाहौर में हाफिज सईद से मिलने की तस्वीरों के सामने आने के बाद हुई है।

आतंकी सरगना गोपाल सिंह चावला की वजह से ही पाकिस्तान ने बीते 14 अप्रैल को वैसाखी डे के मौके पर भारतीय राजनयिक अधिकारयों को पंजा साहिब गुरुद्वारा में जाने से रोक दिया था।

इससे पहले 12 अप्रैल को भी अधिकारियों को वाघा बॉर्डर पहुंचे सिख श्रद्धालुओं से मिलने से रोक दिया गया था। वाघा भारतीय सीमा खत्म होने के बाद पाकिस्तान का पहला रेलवे स्टेशन है।

पाकिस्तान स्थित भारतीय दूतावास के अधिकारी हर साल की तरह भारतीय श्रद्धालुओं से मिलना चाह रहे थे ताकि उन्हें वहां किसी तरह की दिक्कत न हो और विषम परिस्थिति में मदद कर सकें।

खालसा पंथ के 320 वें जन्म दिवस के मौके पर वैशाखी के दिन 1800 सिख श्रद्धालु पाकिस्तान में तीर्थ स्थल पर पहुंचे थे। भारतीय श्रद्धालुओं की यह तीर्थयात्रा भारत और पाकिस्तान के बीच धार्मिक यात्राओं के लिए हुए समझौते के तहत होती है।

भारत विरोधी अभियान के तहत गुरुद्वारा पंजा साहिब के परिक्रमा के दौरान गोपाल सिंह चावला और उसके कारिंदों द्वारा पाकिस्तान में सिख जनमत संग्रह 2020 के पोस्टर भी लगाए गए थे, जिसका भारत ने जोरदरा विरोध किया है।
ये गोपाल सिंह चावला पाकिस्तान में इतना प्रभाव रखता है कि इसके इशारे पर भारतीय उच्चायुक्त बिसारिया को भी पंजा साहिब गुरुद्वारा जाने से रोक दिया गया था।
भारतीय विदेश मंत्रालय ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि पाकिस्तान सरकार ने जो किया है यह वियना कन्वेंशन का घोर उल्लंघन है।

पंजाब से पाकिस्तान गए सिख जथे में शामिल सिख अमृतधारी औरत किरण के पाकिस्तान में गायब करके उसे इस्लाम कबूल करवाके एक मुसलमान के साथ निकाह करवाने के मामले की पूरी जानकारी के घटनाक्रम में शामिल है ये गोपाल सिंह चावला । पाकिस्तान से खालिस्तानी रेफरेण्डम इसी गोपाल सिंह की देख रेख में चल रहा है और ये हाफिज सईद की आतंकी पार्टी के एक विंग का हिस्सा माना जाता है।
पटियाला में बम धमाके की तैयारी में लगे हुए आतंकवादी शबनमदीप की गिरफ्तारी के बाद पटियाला के इस इस पी श्री मनदीप सिंह सिद्धू ने बताया था कि पाकिस्तानी इंटेलीजेंस अफसर जावेद खान के संपर्क में शबनमदीप सिंह जुलाई 2018 में आया था। उसने शबनमदीप सिंह की इसी खालिस्तानी गोपाल सिंह चावला के साथ जान-पहचान कराई थी। गोपाल सिंह चावला ने सोशल मीडिया जरिये शबनमदीप सिंह को पाक स्थित गुरुद्वारा ननकाना साहिब के सीधे दर्शन भी कराए थे। इस से भी आई एस आई और गोपाल सिंह चावला के कुतिस्त सबन्धों की पुष्टि होती है ।
पाकिस्तान में पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के गोपाल सिंह चावला ने 9/11 मुंबई हमले के दोषी हाफ़िज़ सईद को गुरु नानक के जन्मस्थान ननकाना साहिब में बुलाकर उसकी राजनीतिक पार्टी को समर्थन भी घोषित किया था। इस से कुछ दिन पहले हाफ़िज़ सईद के सम्बन्धी अब्दुल रहमान मक्की ने  गुरु नानक और सिख पंथ के विषय में अपशब्द और अपमानजनक भाषा का प्रयोग किया था। तब इसी गोपाल सिंह चावला और इसके साथ साथ इंग्लैंड और कनाडा में रहने वाले किसी भी अलगाववादी सिख संगठन ने मक्की के व्यक्तव्य पर जरा भी रोष प्रकट नहीं किया।


Hit Counter provided by laptop reviews