पाकिस्तान में मुसलमानों ने किया सिख बच्ची का बलात्कार-हाथ भी तोड़ डाले

पाकितान में सिखों के जबरदस्ती धर्म परिवर्तन की घटनाओं की रिपोर्टिंग के दौरान इस इस्लामिक देश के पंजाब प्रांत में एक एम्बुलेंस में अहसान अली और समीन हैदर नाम के दो मुसलमानों ने 15 साल की एक नाबालिग सिख बच्ची के साथ बलात्कार कर दिया।बलात्कार का  विरोध कर रही बच्ची के हाथ भी तोड़ डाले।
इस घटना के बाद पाकिस्तान की सिख युवतियों में सहम का वातावरण है
पुलिस ने बताया कि बच्ची को ननकाना साहिब शहर में स्थित एक गुरूद्वारे से लापता कर दिया गया था ।
उन्होंने बताया कि जब उसका कोई खोज खुरा नहीं मिला तो उसके परिजनों ने पुलिस को इसकी सूचना दी। किशोरी के पिता ने बताया कि परिवार ने ननकाना बाईपास पर पंजाब आपात सेवा की एक एम्बुलेंस देखी।
पीड़ित लड़की के पिता ने कहा कि उनके परिवार वालों ने देखा था कि नानकाना बाइपास के पास पंजाब इमरजेंसी सर्विस रेस्क्यू 1122 की वैन खड़ी थी। उन्होंने कहा, ‘एंबुलेंस में लड़की चीखें मार रही थी। हमने एंबुलेंस का पीछा किया और देखा कि दो लोग हमारी लड़की के साथ बलात्कार कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि दोषी लड़की को एंबुलेंस से बाहर फेंक कर फरार हो गए।

नानकाना पुलिस के अधिकारी नदीम अहमद ने बताया कि अहसान अली और समीन हैदर नाम के दो दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है। यह दोनों सरकारी कर्मचारी है, जो रेस्क्यू 1122 इमरजेंसी सर्विस में काम कर करते हैं।

रेस्क्यू 1122 इमरजेंसी सर्विस ने अपने बयान में कहा है कि पुलिस के साथ सहयोग कर पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए मदद कर रहे है।
पाकिस्तान में ऐसी घटनाओं से साबित हुआ है कि वहां न सिखों का धर्म सुरक्षित है ना ही इज्जत । ऐसी घटनाओं से उन सिखों की आंखें खुल जानी चाहिये जो खालिस्तान के लिए पाकिस्तान के इशारों पर कठपुतली की तरह नाचते हैं और पाकिस्तान के रहमो कर्म पर पलकर वहां रह रहे सिख समुदाय के लिए खतरा बन रहे हैं ।


Hit Counter provided by laptop reviews