राधे मां बोलीं – कई बार मेरा भी हुआ है यौन शोषण

उफ़ क्या कह दिया राधे आपने अपने भक्तों से

उफ़ क्या कह दिया राधे आपने अपने भक्तों से

उफ़ क्या कह दिया राधे आपने अपने भक्तों से अ डॉयलॉग विद जेसी शो में शिरकत करने आईं राधे मां ने जी रीजनल चैनल्स के सीईओ जगदीश चंद्र के धारदार सवालों का बेबाक जवाब दिया.

राधे मां ने अपनी जिंदगी के बारे में बताते हुए कहा कि मां की मौत के बाद उनका ध्यान ग्रंथों में चला गया. गुरुवाणी सुनती रहती थी और इसी सब में मेरी लगन लग गई.

कम उम्र में शादी और पति का अकेले छोड़कर चला जाना ये सब चीजें मेरे लिए प्रेरक साबित हुईं.

उन्होंने कहा कि मीडिया चाहे उनके बारे में जो दिखाए वो परवाह नहीं करतीं. मुझे पता है मेरा मकसद क्या है?

उन्होंने बताया कि मेरे पापा मुझे 21 साल की उम्र में बाबा रामदीन दास के पास ले गए और उन्होंने मुझे देखकर कहा कि ये चंडी है.

राधे ने इस मुकाम पर पहुंचने के श्रेय अपने गुरु को दिया.

फुदक फुदक कर चुम्मा 

उन्होंने बताया कि मैं मां की मूर्ति के आगे दरवाजा बंद करके खूब नाचती थी जिसे कुछ लोगों ने देखा इस तरह धीरे-धीरे मेरे फॉलोवर बनते गए.

उन्होंने कहा कि मैंने 27 साल पहले गृहस्थ जीवन को त्याग दिया था. मेरी जिंदगी खुली किताब है.

मैं अपने भक्तों को समझाती हूं कि तुम साफ रहो.

हम दुनिया को मैसेज देते हैं कि माता-पिता से प्यार और उनकी सेवा करो.

उन्होंने बताया कि वे बाबाओं से नहीं मिलती हैं.

मेरे आश्रम जो साधु–संत आते हैं, उनका रेस्पेक्ट जरूर करती हूं.

उन्होंने बताया कि उनकी कोई बदनाम गुफा नहीं है और वो खुद को धर्म गुरु नहीं मानती.

वे इंसानियत को मानती हैं. उन्हें मंदिर, मस्जिद और गुरुद्वारा सब अच्छा लगता है.

राधे मां कहती है कि मृत्यु सच है, जीवन झूठ है. प्यार त्याग है.

उन्होंने कहा कि वे पॉलिटिक्स में कभी नहीं जाएंगी.

राधे मां ने कहा कि पीएम मोदी ने शुरू में अच्छा काम किया. उन्होंने कहा कि अगर धार्मिक लोग सुरक्षा की परवाह करेंगे तो लानत है.

उन्होंने कहा कि उनके साथ भी कई सेक्सुअल हैरासमेंट हुआ है.

उन्होंने कहा कि वे ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान से जुड़ी हुई हैं.

लोग मेरी गुफा बना देते हैं

राधे मां कहती है कि वे जहां भी जाती हैं लोग मेरी गुफा बना देते हैं और राधे मां की चौकी लगा देते हैं.

उन्होंने अपनी सास की खूब तारीफ की.

राधे मां के मुताबिक जो जिसे मानता है वो उसे माने इसमें कुछ गलत नहीं है.

उन्होंने बताया कि लोग उन्हें गुड़ियों जैसा बताते हैं, वे गुड़ियों से खेलती हैं और गुड़िये के साथ सोती हैं.

ज्ञान का प्रचार करने के लिए जब कोई उन्हें बुलाएगा तो वे जाएंगी.

भूतिया परेड 

वे त्रिशूल को धर्म का प्रतीक मानकर अपने पास रखती हैं. वे भक्तों को रक्षा कवच के तौर पर त्रिशूल देती हैं.

उन्होंने बताया कि उनके अंदर पॉजिटिव एनर्जी है और उन्हें गुस्सा भी नहीं आता.

राधे ने  कहा कि उन्होंने दे तरह के लोगों ने मारा एक वे जिनकी उन्होंने मदद की और दूसरे वो जिनकी नीयत खराब है.

उन्होंने कहा कि उन्हें बाबा नानक जी ने भेजा है.

मैं जरुरतमंदों की मदद करती हूं. रोज चार घंटे मेडिटेशन करती हूं और भक्तों को भी बताती हूं.

वे खुद को लेखक भी बताती हैं और लाल रंग से प्रेम को शौक बताती हैं.

उन्होंने गोद में बैठना बंद कर दिया

राधे ने बताया कि उन्हें उनकी मृत्यु का आइडिया है, बकौल राधे मां उनके पापा को भी उनकी मौत का समय पता था.

राधे मां बताती हैं कि उन्हें फिल्मों में गाना गाने का मन नहीं है.

उन्होंने कहा कि उनके भक्त खाने की चीज उनके मुंह से छीनकर प्रसाद के तौर पर ग्रहण करते हैं.

राधे मां ने बताया कि कंट्रोवर्सी की वजह से उन्होंने गोद में बैठना बंद कर दिया.

उन्होंने बताया कि कोई मेरे पीछे पागल नहीं है. लोगों ने उन्हें ही पागल बना दिया है.

उन्होंने कहा कि हमें भगवान के पीछे रोते गाते लगे रहना चाहिए.


Hit Counter provided by laptop reviews