हाई कोर्ट पहुंचे डाक्टर MSG को मिलेगा शक का लाभ ? साधवियों को भरना पड़ सकता है हर्जाना ?

हनी प्रीत भी देगी बेल के लिए अर्जी

बलात्कार पीडिता अगर मुकद्दमा हारे तो क्या होता है

बलात्कार पीडिता अगर मुकद्दमा हारे तो क्या होता है , चंडीगढ़: जेल में बंद संत गुरमीत राम रहीम सिंह इन्सां ने   सीबीआई कोर्ट की तरफ से 20 साल की कैद की सजा सुनाए जाने को चुनौती देते हुए पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में अपील दायर कर दी है .

बचाव पक्ष के वकील विशाल गर्ग नरवाना ने कहा, ‘‘हमने पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में आज अपील दायर की. इसके जरिए हमने सीबीआई कोर्ट के आदेश को चुनौती दी है.

महताब को जज नहीं मानते सुखबीर 

’’ उन्होंने कहा कि कई आधारों पर सीबीआई कोर्ट के फैसले को चुनौती दी गई है.

उन्होंने कहा, ‘‘एक आधार यह है कि घटना के बाद सीबीआई की तरफ से महिलाओं के बयान दर्ज करने में छह साल की देरी की गई. ’’

उन्होंने कहा कि सीबीआई ने दावा किया है कि दोनों महिला अनुयायियों का 1999

में यौन उत्पीड़न किया गया और एजेंसी ने 2005 में बयान दर्ज किया.

बलात्कार और जाँच 

नरवाना ने आरोप लगाया कि सीबीआई ने पीड़िता के बयान का कुछ हिस्सा छिपा भी लिया.

बाबा राम रहीम को सुनाई गई सजा में झोल तलाश रहे वकीलों का विचार है कि डाक्टर एम एस जी को जल्दी ही राहत मिल जाएगी.

कानूनी जानकारों का कहना है कि इस मामले में रेप की मेडिकल एविडेंस कमजोर

होने की संभावना के चलते संत गुरमीत राम रहीम सिंह इन्सां को फायदा होने की आशा है.

बलात्कार पीडिता अगर मुकद्दमा हारे तो क्या होता है

कानूनी माहिर ये भी अनुमान लगा रहे हैं कि हो सकता है कि अगर बाबा शक के

लाभ में बरी हो जाएं तो साध्वीयों और सी बी आई के जांच अधिकारियों और गवाहों

को लाखों रुपए का हर्जाना बाबा जी को देना पड़ सकता है.

उधर हनीप्रीत के वकील ने बताया कि हनीप्रीत दिल्ली में ही है.

हनीप्रीत के वकील कल दिल्ली हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर करेंगे.

हनीप्रीत के वकील के मुताबिक, कल हाई कोर्ट में अग्रिम जमानत की अर्जी देगी.


Hit Counter provided by laptop reviews