ब्लाउज़ क्यों नहीं पहनतीं इस क्षेत्र की महिलाएं

साड़ी भले ही सिंपल हो पर ब्लाउज का स्टाइल हो

साड़ी भले ही सिंपल हो पर ब्लाउज का स्टाइल हो महिलाओं की खूबसूरती को निखारने में ब्लाउज काफी अहम होती है।

आपकी साड़ी  भले ही सिंपल हो पर यदि ब्लाउज का डिजाइन स्टाइलिश हो तो सुंदरता अपने आप ही बढ़ जाती है।

लेकिन आज हम आपको ऐसी महिलाओं के बारे में बताने जा रहे हैं जो ब्लाउज ही नहीं पहनती।

यहां के परंपरा के मुताबिक महिलाओं को ब्लाउज पहनने की अनुमति नहीं है।

छत्तीसगढ़ के आदिवासी अंचलों में काम करती महिलाएं साड़ी के साथ ब्लाउज नहीं पहनती है।

इस परंपरा के अंतर्गत महिलाएं ना तो खुद ब्लाउज पहनती है और ना ही गांव की किसी और महिलाओं को इसे पहनने देती हैं।

रेड लाईट एरिया में बालीवुड एक्ट्रेस 

इन इलाकों में रहने वाले लोग शुरू से अपनी परंपरा को निभाते चले आ रहे हैं।

लेकिन हाल ही में ऐसी खबरें आई थी कि यहां रहने वाली कुछ लड़कियों ने ब्लाउज पहनना शुरू कर दिया है।

जिस वजह से गांव वालों ने उन पर परंपरा की अवहेलना का आरोप भी लगाया था।
आज भी इस परंपरा को बचाने में पुराने लोग लगे हुए है।

बिना ब्लाउज साड़ी पहनने को गातीमार स्टाइल कहा जाता है।

लगभग एक हजार साल से इस परंपरा को लोग निभाते चले आ रहे हैं।

आदिवासी महिलाओं का मानना है कि यह काम करने के लिए काफी सुविधाजनक होता है।

ब्लाउज बिना खेत में काम करना और बोझ उठाना काफी आसान हो जाता है।
जबकि जंगली इलाकों में महिलाएं भारी गर्मी की वजह से ब्लाउज पहनना पसंद नहीं करती।

वहीं दूसरी तरफ शहरों में अब बिना ब्लाउज साड़ी पहनने का फैशन चल पड़ा है।

कुछ मॉडलों ने इसके समर्थन में फ्री साड़ी पहनकर सोशल मीडिया पर अपनी तस्वीरें पोस्ट कर रही हैं।

जिसकी लोग जमकर तारीफ भी कर रहे हैं।


Hit Counter provided by laptop reviews